दालचीनी एक आयुर्वेदिक औषधि है । दालचीनी की छाल को मसालों और औषधि के रूप में प्रयोग किया जाता है । इसकी छाल हल्के भूरे रंग की थोड़ी मोटी, चिकनी होती है । दालचीनी मोटापा कम करने के साथ ही कई बीमारियों को भी दूर करने के गुण रखती है । यह रक्तशोधक भी है । अगर इसे रोज़ाना सुबह खाली पेट और रात को सोते समय एक कप या आधा गिलास गर्म पानी के साथ लिया जाए तो इससे बहुत सारे फायदे होते हैं । आइए जानते इन फ़ायदों के बारे में हैं-

  • एक चुटकी दालचीनी पाउडर तथा उतनी ही मात्रा में पिसी हुई काली मिर्च को शहद के साथ हल्के गर्म पानी में घोलकर पीने से जुकाम के साथ ही गले की खराश भी ठीक हो जाती है । इसके पाउडर को पानी के पेस्ट को माथे पर लगाने से ठंडी हवा से होने वाले सिर दर्द में आराम मिलता है ।
  • जोड़ो के दर्द के लिए दालचीनी का पाउडर गर्म पानी के साथ लेना चाहिए| खट्टी डकारें, अपच, गैस और एसिडिटी जैसी पेट की समस्‍या होने पर दालचीनी का प्रयोग करने से आराम मिलता है ।
  • दालचीनी मेटाबोलिज्म को बढ़ाती है जो मोटापे से परेशान व्यक्ति लिए लाभदायक है ।
  • दालचीनी कोलेस्ट्रॉल को कम करने के साथ ही ब्लॉकेज को हटाती है जो दिल के मरीजों के लिए लाभदायक है और आम लोगों को दिल की बीमारियों से बचाती है ।
  • दालचीनी शरीर का डिटॉक्सिफिकेशन करती है इसलिए कैंसर जैसे जानलेवा रोग से बचाने के लिए भी फायदेमंद है । तथा यह त्वचा के रोगों विशेषकर पिम्पल्स में बहुत फायदेमंद है ।
  • कानों की समस्या जैसे कानों में आवाज़ आना, कम सुनाई देना, कानों में बार बार इंफेक्शन होना आदि को रात मे दालचीनी का पानी पीने से ठीक किया जा सकता है|