साइकिल चलाना हमारे फिटनेस के ल‍िए बहुत सारी अभ्यास में से बहुत खास है। खासकर हमारी व्यस्त जीवनशैली के दौरान 30 मिनट तक साइकिल चलाने से भी कई समस्याओं से लड़ने में मदद मिल सकती है। जैसे-जैसे हमारी लाइफस्‍टाइल व्यस्त होती जा रही है, ऐसे में हम अपने स्वस्थ और फिटनेस के ल‍िए समय नहीं जाती है। वजन बढ़ने से कई अन्य समस्याएं भी हो सकती हैं, जैसे हृदय रोग, मधुमेह, उच्च कोलेस्ट्रॉल, या उच्च रक्तचाप।

इसलिए वजन कम करना बहुत जरूरी है। यदि आप वजन बढ़ने के साथ-साथ आपके पेट और पैरों पर जमा होने वाली चर्बी को लेकर परेशान हैं और जल्दी से अपना वजन कम करना चाहते हैं, तो अभी से साइकिल चलाना शुरू कर दें। चलिए हम बताते है रोजाना 30 मिनट साइकिल चलाने के फायदों के बारे में|

साइक‍ल चलाने के फायदे –

  • रोजाना साइक‍िल चलाने से आपके पैरो की भी अच्‍छी एक्‍सरसाइज हो जाती है। इससे पैरो की मांसपेशियों मजबूत होने लगती है।
  • साइक‍िल चलाने से तनाव भी कम होने के साथ ही मूड भी फ्रेश हो जाता है। इसके अलावा साइक‍िल‍िंग आपकी याददाश्‍त को भी बेहतर करता है।
  • साइक‍िल‍िंग से मसल्स भी मजबूत बनती हैं और शरीर का फैट कम होने में भी सहायता मिलती है। रोजाना साइकिल चलाने पर आप एक हफ्ते में 2,000 कैलोरी तक घटा सकते हैं।
  • साइकिल चलाने पर दिल की सेहत भी अच्छी होती है और सांस संबंधी दिक्कतों में भी आराम मिलता है।
  • पुराने ऑस्टियोआर्थराइटिस वाले लोगों के लिए साइकिल चलाना सबसे अच्‍छी एक्‍सरसाइज होती है।
  • नियमित साइक‍ल चलाने से बीपी भी नियंत्रित रहता है और ये दिल के ल‍िए भी अच्‍छा है।
    क‍िस समय करें साइक‍िल‍िंग

वैसे तो आप कभी भी साइकिल‍िंग कर सकते हैं, लेक‍िन अच्‍छे स्वस्थ र‍िजल्‍ट पाने के ल‍िए इसे सुबह के समय ठंडी हवा में चलाना ज्‍यादा अच्‍छा साबित होगा। इन बातों का रखें ध्‍यान:

  • घुटनों की समस्‍या से जूझ रहे लोगों को भी साइक‍िल नहीं चलानी चाह‍िए क्‍योंक‍ि साइकिल‍िंग से समस्‍या और बढ़ सकती है।
  • अस्‍थमा के मरीजों को ज्‍यादा साइक‍िल‍िंग करने से बचना चाह‍िए वरना सांस फूलने की समस्‍या हो सकती है। अगर साइक‍िल‍िंग करनी है तो डॉक्‍टर की परामर्श जरुर लें।
  • मिर्गी के मरीजों को भी साइक‍िल‍िंग करने से पहले डॉक्‍टर की परामर्श लेनी चाह‍िए और ऐसे लोगों को कभी भी अकेले साइक‍िल‍िंग नहीं करनी चाह‍िए।
  • साइकिल चलाने से पहले और बाद में स्ट्रेचिंग करना लाभदायक रहता है। यह साइकिल चलाने के लिए शरीर को भी तैयार कर देता है।