आजकल कम उम्र में ही लोगों के बाल सफेद होने शुरू हो जाते हैं। कुछ लोग इन सफेद बालों को छिपाने के लिए तरह-तरह के हेयर प्रोडक्ट्स, हेयर कलर, मेहंदी आदि का इस्तेमाल करने लगते हैं। कुछ ऐसे भी होते हैं, जो सफेद बाल नजर नहीं आए कि उन्हें तोड़ने लगते हैं। क्या सफेद बालों को तोड़ना सही है? क्या सफेद बालों को तोड़ने से वे दोबारा नहीं उगते हैं? सफेद बालों को तोड़ने से संबंधित कुछ मिथक भी जुड़े हुए हैं। कुछ लोग कहते हैं कि आप जितना सफेद बालों को तोड़ेंगे, उतने ही ज्यादा आपके बाल सफेद होने लगेंगे। इन सब मिथको के बारे मे हम आपको बताएगे:

आज से 10-20 साल पहले सफेद बाल सिर्फ बुजुर्गावस्था में ही सिर पर नजर आते थे, लेकिन आज जिस तरह की लाइफ स्टाइल लोग जी रहे हैं, उससे कम उम्र में ही बाल, त्वचा पर नकारात्मक असर दिख रहा है। 25-30 वर्ष के युवक-युवतियों के बाल सफेद हो रहे हैं। इन्हें देखकर लगता ही नहीं कि ये जवान हैं या बुजुर्ग। उम्र बढ़ने के कारण बालों को काला रंग देने वाली पिग्मेंट सेल्स कमजोर होने लगती हैं। इससे धीरे-धीरे बाल सफेद होने लगते हैं। लेकिन तब ये और तेजी से सफेद होते हैं, जब आप बालों की देखभाल, उन्हें पोषण सही से ना दें। यहां ये जानना जरूरी है कि क्या सफेद बालों को उखाड़ना चाहिए, तो इसका जवाब है, हां। यह सिर्फ एक मिथक है। इसमें जरा सी भी सच्चाई नहीं है कि सफेद बाल को तोड़ने से वे और भी ज्यादा सफेद होने लगते हैं। हां, बार-बार आप इन सफेद बालों को तोड़ेंगे, तो स्कैल्प के नीचे मौजूद फॉलिकल्स को नुकसान पहुंच सकता है। इससे नए बाल आने में समस्या हो सकती है। बेहतर है कि आप बालों को नेचुरल तरीके से कलर कर लें या उन्हें काट लें। इससे पोर्स को नुकसान नहीं पहुंचेगा।